Menu
A+ A A-

गाजीपुर : के एराटीओ ने भ्रष्टाचार के लिए एक से बढकर एक रास्ता निकालते हैं. अपने रसूख को कायम रखने के लिए वे जिला पंचायत के मद से बने हुए रोड को अपनी जागीर समझ कर रोड का बैरकेडिंग कर उसे ताला से बंद करवा दिय़े हैं.

आप को बताते चलते हैं कि एराटीओ कार्यालय में जब आप किसी काम से जाते हैं . वहां पर आप को कुछ भी गलत दिखा व आप फोटो या वीडियों आप ने बना लिया तो आप के लिए शामत आ ही जायेगीं. एराटीओ साहब के संरक्षण प्राप्त गुर्गे व उनके निजी चालक के द्वारा आप को पहले धमकाया जाय़ेगा कि आप यह सब क्यों कर रहे हो. आप उनकी बातों से नहीं डरे तो आप का फोटो खिेच कर चालक कहेगा की तुम्हें साहब से कह कर जेल भेजवा दूंगा.

ये साहब यहीं पर नहीं रूकते हैं, ये साहब जिला पंचायत के मद से बने हुए रोड को अपनी मलकीयत समझते हुए उसे बैरकेडिंग करके अपना ताला लगा देते हैं. उस आम रास्ता पर जब तक एराटीओ साहब आफिस में रहते हैं उसका उपयोंग केवल साहब ही कर सकते हैं. उस रोड की चाभी एराटीओ साहब के चालक के पास रहती है.

सूत्रों कि माने तो इन सबके पिछे भ्रष्टाचार ही हैं, यहां पर हर काम के लिए रेट फिक्स हैं. आप यहां पैसा नहीं देते है तो आप का कोई भी काम एक हपते से कम समय में नहीं हो सकता हैं. जो लोग जिले के 40से 45 किलोमीटर के दूरी से एराटीओ आफिस आते हो उनका काम 2से4बार में भी न हो, तो वह आम व्यक्ति पर मानसिक व आर्थिक बोझ का जो प्रभाव पड.ता है, उसके लिए कौन जिमेंदार होगा.

एराटीओ साहब कि आफिस आम जनता के काम के लिए नहीं भ्रष्टाचार के खेल के लिए यह आफिस रात को 8से 9बजे तक चलती रहती हैं.

यह सब काम करने का साहस साहब को कहां से प्राप्त होता है. आप सभी लोग इसका अंदाजा लगा सकते हैं. 

 

0
0
0
s2sdefault

Debug

Context: com_content.article
onContentAfterDisplay: 1
Jquery: loaded
Bootstrap: loaded